Tuesday, July 27, 2010

लड़ाई के बहाने





बहुत दिन हो गए हैं
झगडा किये उससे
ढूढता रहता हूँ
लड़ाई के बहाने अक्सर



सुबह ही टी-सेट का नया कप तोडा,
गीला तौलिया बिस्तर पर छोड़ा,
बाथरूम में साबुन का झाग फैलाया,
पोंछे के वक़्त चप्पल के साथ अंदर आया,
गार्डनिंग के बहाने गमला तोडा,
टेस्टी ब्रेकफास्ट प्लेट में आधा छोड़ा



दोपहर के खाने पर भी मुहं बिचकाया
कमरे में उसके घुसते ही
रिमोट पर हाथ अजमाया

इतने पर भी वो कुछ नहीं बोली
स्टाइल से पूछा " एवरीथिंग इस नोर्मल





तुम्हारे टाइप की बनाने की कोशिश कर रही हूँ
चहकती रहती हूँ ना दिनभर
संजीदा रहकर बुद्धिमान बन रही हूँ
मेरी बक-बक से तुम्हारा दिन ख़राब होता है ना
आज खामोश रहकर तुम्हारा साथ दे रही हूँ



ओहो! तो ये एक हफ्ते पुरानी कहानी है
इसी वास्ते रूठी-रूठी सी मेरी रानी हैं
सोचता हूँ ..इगो परे कर कह ही दूं
के ये बदलाव मुझे अच्छा नहीं लगता
तेरे गुस्से, बिन घर, घर नहीं लगता
औ डांट बिन सन्डे, सन्डे नहीं लगता



शाम साथ में आउटइंग का प्लान करता हूँ
वापस आकार फिर से लड़ता हूँ
सच्ची! कितने दिन हो गए हैं दोस्तों !
उसके गुस्से की बरसात से भीगा नहीं हूँ मैं



" प्रिया "

27 comments:

अनामिका की सदायें ...... said...

हा.हा.हा.मजा आ गया पढ़ के

ऐसा बदलाव भी चुभता हें.

बहुत खूब.

Pawan Kumar said...

bahut khoob

M VERMA said...

वाह क्या खूबसूरत खयाल है
गुस्से की बरसात में भीगना भी शायद उतना ही सुखद होता है जितना सावन के बारिश में जानबूझ कर अनायास भींगना.
बहुत ही सुन्दर रचना

vandana said...

wooowwww ..soo sweeet yaaar :)...ese alag alag se khyaal tumhe kaise aa jate hain .....nywys ..bahut sunader kavita hui ..loved it :)

vinay vaidya said...

चुटकी भर नमक ही ज़रूरी होता है,
वरना जीवन कितना भी सुंदर हो,
लावण्य से रहित होता है ।
हाँ, बहुत सही लिखा है आपने !

सुरेन्द्र "मुल्हिद" said...

प्रिया जी,
नमस्ते! आशा करता हूँ लखनऊ में सब ठीक होगा और आप भी कुशल मंगल होंगे!
अब आपकी रचना की बात करते हैं, हर बार की तहर आपने इस बार भी बहुत ही कमाल की रचना लिखी है!
व्यंग और संजीदगी को जिस तरह से आपने पेश किया है, मीठी मीठी नोक-झोंक, रूठना-मनाना, वाह वाह वाह, क्या बात है!
सच में कभी कभी हम ऐसा कर जाते हैं जिसका प्रभाव सामने वाले पे कितना गहरा हो जाता है, सोच भी नहीं सकते!
आपकी इस रचना ने सुबह सुबह दिन की शुरुआत अच्छी कर दी! शुक्रिया!

Virendra Singh Chauhan said...

Sachhi,
bahut hi Achhi.
Really Very touching.

Thanks.

Virendra Singh Chauhan said...

Sachhi,
bahut hi Achhi.
Really Very touching.

Thanks.

डॉ .अनुराग said...

गोया गुलज़ार किताबो के टेक लगाये कमरे में है शायद ....आखिरी लाइन ....उसकी तसदीक करती है ....

beautiful ......

and yes still your blog is angry with mozila......

रश्मि प्रभा... said...

प्यार में डांट ... सन्डे सन्डे लगता है, घर जन्नत ! तो उठाओ गिला तौलिया और बाहर कर दो

वन्दना said...

वाह्……………ये अन्दाज़-ए-बयाँ तो गज़ब का है…………ये मीठी मीठी तकरार और फिर मनुहार यही तो ज़िन्दगी के खूबसूरत लम्हे होते हैं और इन्हे बहुत ही खूबसूरती से संजोया है आपने…………बहुत खूब्।

Nisha said...

ha ha.. bhut mazedaar aur gahri.

अनिल कान्त : said...

WOW !!
So Beautiful.....

महफूज़ अली said...

बहुत ही शानदार कविता... बहुत खूब्।

अजय कुमार said...

सुंदर ख्याल ।

Akhtar Khan Akela said...

priyaa behn aaadaab aapki yaad krne kaa andaaz or fir mnaaane kaa anaaz donon alfaazon ki jadugri or jzbaat ki akkasi he jo kisi or ke bute ki baat nhin bdhaayi ho. akhtar khan akela kota rajsthan

richa said...

wow... क्या खट्टी-मीठी, प्यार भरी तक़रार है... पढ़ के मन होने लगा किसी के प्यारे से गुस्से की बरसात में ऐसे भीगने का... सच्ची :)

सम्वेदना के स्वर said...

So sweet!!

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत खूब....ऐसा परिवर्तन भी नहीं भाता..

अनामिका की सदायें ...... said...

आप की रचना 30 जुलाई, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपने सुझाव देकर हमें प्रोत्साहित करें.
http://charchamanch.blogspot.com

आभार

अनामिका

Voice of youths said...

I have to say- वापस आकर फिर लड़ता हूँ|


very nice

हरकीरत ' हीर' said...

बहुत ही बेहतरीन ख्याल .....!!

पति- पत्नी की नोक झोंक को बखूबी शब्दों में बांधा है आपने .....

हास्यरस की सुंदर कविता .......!!

बेचैन आत्मा said...

ये बदलाव मुझे अच्छा नहीं लगता
तेरे गुस्से के बिना घर घर नहीं लगता.
...वाह क्या बात है.

प्रश्न-पत्र गढ़ती रहती है
वह मुझसे लड़ती रहती है.

शरद कोकास said...

यह रोज़ रोज़ की कहानी है ...।

Dimps said...

Bahut achha likha hai...
Very nice :)
Simple words and good topic!

Regards,
Dimple

Vivek VK Jain said...

hahaha.......a b'ful post.

Deepak 'Prakhar' said...

Wah Priya ji kayal ho gaya aapki kavitaon ka, choti choti baaton se kitna gahra arth nikala hai aap ne......likhte rahiye........hum kadradaano ke liye.......

Deepak
9044316656