Friday, October 16, 2009

आओ जला ले एक लौ मोहब्बत की,

Hello friends!

It's not feasible to wish all of you on your blog. Thus I applied short cut . Hope you guys will understand my plight. I'm in hurry........ so chalte- chalte



"आओ जला ले एक लौ मोहब्बत की,
बिना मलतब का प्यारा रिश्ता बना ले कोई ,
नफरत, शिकवे, कड़वाहटे जल जाये शायद,
हादसे इस दिवाली टल जाये शायद "

See you Soon,

with warm regards,

Priya

16 comments:

raj said...

स्वर्ग न सही धरा को धरा तो बनाये..
दीप इतने जलाएं की अँधेरा कही न टिक पाए..
इस दिवाली इन परिन्दों के लिए पटाके न चलायें....

AlbelaKhatri.com said...

बहुत ख़ूब कहा........

आपको और आपके परिवार को दीपोत्सव की

हार्दिक बधाइयां

sanjaygrover said...

हादसों पर एक शे’र याद आ गया (शायद बशीर बद्र का है)ः-
मैं उससे टूटके मिलता हूं, जब भी मिलता हूं/
मेरा ये मिलना कहीं हादसा न हो जाए//

सैयद | Syed said...

आपको और आपके परिवार को भी दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें

परमजीत बाली said...

बहुत सुन्दर मुक्तक है। बधाई।+

दीपावली की आपको तथा आपके परिवार को शुभकामनाएं !!

अम्बरीश अम्बुज said...

happy deepawali to you as well...

M VERMA said...

Happy Diwali

Udan Tashtari said...

सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

सादर

-समीर लाल 'समीर'

SACCHAI said...

" bahut hi khub kaha hai aapne "

" aapko dipawali ki badhai "

----- eksacchai { AAWAZ }

http://eksacchai.blogspot.com

समयचक्र - महेंद्र मिश्र said...

सुन्दर मुक्तक
दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ...

समयचक्र - महेंद्र मिश्र said...

दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ...

दिगम्बर नासवा said...

ये दीपावली आपके जीवन में नयी नयी खुशियाँ ले कर आये .........
बहुत बहुत मंगल कामनाएं .........

रश्मि प्रभा... said...

is pyaare khyaal ka haath kaun nahi thamega....raushan jahan zarur banayega.......main saath hun

Navnit Nirav said...

mohabbat ki lau.....to kab ki jal chuki hai .....ab to koshi ho ki usase nikalne wali jyoti kuchh tej ki jaye.

Happy Deepawali

Sudhir (सुधीर) said...

प्रिया,

आपको भी दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएँ. आप सैदव ही मेरी रचनाओं पर उत्साहवर्धन करने में अग्रणीय रहीं हैं....आपको इस दीप पर्व पर ईश्वर प्रेम और यश के ज्योत्सना के आलोकित रखें इसी कामना के साथ,

सादर,
सुधीर

यदि आप उचित समझे तो अपना ईमेल मुझे देने की कृपा करें,

SACCHAI said...

" bahut khub "

---eksacchai { AAWAZ }

http://eksacchai.blogspot.com