Tuesday, May 19, 2009

फूलों के मध्य अदभुद संवाद



बगीचे में एक अजीब इत्तफाक हुआ,
फूलों के मध्य अदभुद संवाद हुआ,
प्रकृति की विडम्बना देखिये.....
उस अनोखी कथा कि मैं साक्षी बनी हूँ,
भाग्यशाली हूँ शायद,
जो बयां करने लायक बनी हूँ..............

एक फूल ने दूसरे फूल से कहा,

जब तितलियाँ इठलाती हुई, पंख
फड़फड़ाती हुई,
अपने शूल को चुभोकर, रस चूसती हैं,
पीड़ा होती हैं, कराह पड़ता हूँ मैं,
पर मैंने तुम्हारी सिसकियों को कभी नहीं सुना,
यही चलन हैं कुल का अपने ,
ऐसा विचार कर, चुप रहा, दर्द सहा,
फिर भी मस्त रहा ।

इस पर दूसरा बोला
.........

बाग़ को महकाने के लिए,
अपनी संतति को बढ़ाने के लिए,
चक्षुओ में स्नेह दर्शाने के लिए,
सदियों से कुफ्र सहे हैं हमने ,


अजीब हैं न ये बात.........
मुझको भी भेदा था इसने,


आज, फूलों
की आह का मर्म समझ में आया हैं,
खिलखिलाहट के पीछे का दर्द समझ में आया हैं
मुस्कराहट के पीछे कि ये दास्ताँ दिल पे निशां छोड़ गई ,
और कागज पर बिखर एक संजीदा व्यथा बोल गई .........













23 comments:

श्यामल सुमन said...

खूबसूरत भाव।

खुशी के संग में दर्द का होता है एहसास।
संतति क्रम आगे बढ़े चाहत सबके पास।।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com
shyamalsuman@gmail.com

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र said...

बहुत सुन्दर पढ़ने योग्य रचना फोटो के साथ. लिखती रहिये.

AlbelaKhatri.com said...

ghazab
badhai...bahut badhai

M VERMA said...

खिलखिलाहट के पीछे का दर्द ---- बहुत खूब. सुन्दर रचना

ACHARYA RAMESH SACHDEVA said...

MAN BHAVAN KAVITA AUR LA JAWAB SHAILY KE LIYE DHANYAVAD.
SARASWATI KI ANUKAMPA BANI RAHE.
IF POSSIBLE SEND YOUR EMAIL ID TO ME
RAMESH SACHDEVA (DIRECTOR)
HPS SENIOR SECONDARY SCHOOL
A SCHOOL WHERE LEARNING & STUDYING @ SPEED OF THOUGHTS
M. DABWALI-125104
HERE DREAMS ARE TAKING SHAPE
PHONE 01668-230327, 229327
MOBILE 09896081327
www.haryanapublicschool.wordpress.com

विनय said...

बहुत मनमोहक रचना है

VIJAY TIWARI " KISLAY " said...

शेफाली जी
आपकी रचना में एक बेहतरीन सन्देश है, पढ़ कर अच्छा लगा
ये पंक्तियाँ
बाग़ को महकाने के लिए,
अपनी संतति को बढ़ाने के लिए,
चक्षुओ में स्नेह दर्शाने के लिए,
सदियों से कुफ्र सहे हैं हमने ,

और ये पंक्तियाँ
आज, फूलों की आह का मर्म समझ में आया हैं,
खिलखिलाहट के पीछे का दर्द समझ में आया हैं
बहुत ह्रदय स्पर्शी हैं
- विजय

Priya said...

aap sabhi ko hardik dhanyawaad.

Kislay ji , aapne mujhe shefali kaha, shayad galti se aisa ho gaya, kripya " PRIYA" kahiye hame

Navnit Nirav said...

TV par ek vigyapan dekha karta tha
"Dard mein bhi kuchh baat hai, dard shwet hai dar syam hai"
uske bad agar kuchh yad rahega to wo hain aapki is kavita ki kuchh pantiyan.
Bahuch pyari kavita hai.
Navnit Nirav

mehek said...

phulom ka marm bahut gehre ehsaas dil mein chod gaya,behad sunder rachana,dil ko chune wali,badhai.

vandana said...

bahut bahut bahut khoob....

Suman said...

good

sanjay vyas said...

सृजन के माधुर्य और पीडा दोनों को व्यक्त किया है आपने, एक सुंदर लय के साथ गतिमान होती कविता.

अनिल कान्त : said...

बहुत ही बेहतरीन और हाँ आपने इस रचना के माध्यम से बहुत कुछ कह दिया ...मुझे पसंद आया

मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

richa said...

बहुत सुंदर प्रिया... अब तक फूलों के रंग, उनकी खुशबू और सुन्दरता मन को लुभाती थी... उन्हें देखने का और समझने का एक नया नज़रिया दिया तुमने...

रंजना [रंजू भाटिया] said...

बहुत खूब लिखा है आपने ..पसंद आई आपकी यह रचना

महामंत्री - तस्लीम said...

जीवन में हर कहीं कविता है।
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

शोभना चौरे said...

sashat abhivykti

Jayant Chaudhary said...

Ati sundar..

Aanand aa gayaa.

"लोकेन्द्र" said...

प्रिय जी
अति सरल शब्दों में इतना मार्मिक भाव.... वह भी सुन्दर लय में....
बहुत सुन्दर....
"खिलखिलाहट के पीछे का दर्द समझ में आया है"
आपकी ये पंक्ति ह्रदय को भेद गई...

योगेन्द्र मौदगिल said...

खूबसूरत रचना के लिये साधुवाद...

Harsh said...

bahut sundar rachna hai/....

अमिताभ श्रीवास्तव said...

yu to aapki rachna ki taareef khoob hui he, isliye me bhi karunga to maza jaataa rahega...par karna bhi hogi kyoki likha hi bahut sundar he-
fulo se ham jivan jeenaa seekhte he, uske dard aour auki muskuruahat hame bahut kuchh seekha dete he, bahut achhi rachna mili baachne ko/
saadhuvaad